संदेश

July, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Some worth pursuing good thoughts

"मानने लायक कुछ बहुत अच्छी बातों में सबसे बड़ा नुक्स ये होता है कि वे देखने, सुनने, समझने में बड़ी साधारण लगती हैं...! ” "Some worth pursuing good thoughts have a great lacuna that they seem so simple to eye, ear and mind.” #श्रीश प्रखर

तुम...! आदमी अच्छे नहीं...

तुम...!
आदमी अच्छे नहीं हो,
अच्छी कविता
कैसे लिख सकोगे....? ‪#‎श्रीशउवाच‬

दोस्त.....!

दोस्त सुशील के वर्षगाँठ पर मेरी ये भेंट :


दोस्त.....!
जाने कितने 
भरे-पूरे-अधूरे 
ख्वाब देखे हमने 
साथ-साथ, 
मंज़िल दर मंज़िल
जाने कितनी
काट दीं रातें हमने
करके बातें,इस जहां से
उस जहां की, महक दर महक
जाने कितनों को
थमा दी तुमने
उलफत की मशाल,
उमर दर उमर
अब ठहर कर क्षण भर
देख लो खुद को मुकम्मल
ख़रच ना हो जाओ,
बेईमान दुनिया की खातिर
सांस दर सांस
क्योंकि चाहता हूँ मै
बंशी, कृष्नेत की गूँजें
चौखट दर चौखट
मंदिर दर मंदिर
और हाँ,
इश्क़ दर इश्क़ भी।