संदेश

January, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

टच-कीपैडकालीन लोग

चित्र
कल अचानक ही शहर-भ्रमण करना पड़ा. बस के लिए दिन वाला पास बनवा लिया था. एक छोटी सी गलती या यूँ कहें हड़बड़ी से गलत बस में बैठ गया, जो पहुँचती तो वहीँ थी, पर बहुत ही घूम-फिरके. ये हड़बड़ी बड़ी ही बेतुकी थी, क्योंकि दरअसल मुझे कोई खास जल्दी थी नहीं. सो मै भी बस में बैठा रहा. बहुत दिनों बाद मुझे एक प्रिय काम करने का मौका मिला. चुपचाप लोगों को पढना.  फिर तो बस से उतरकर भी ये पढना जारी रहा. कितने तरह के तो लोग हैं....कितनी तरह की प्राथमिकतायें. सबकी चाहें कमोबेश एक जैसी हैं...खुशियों की सबको दरकार बराबर है. पर देखो कितने अलग दिखते हैं लोग और कितनी अलग दिखती है उनकी आदतें.
टच-कीपैड के युग में भी बच्चों में शरारतें जिंदा हैं..सुकून हुआ देखकर. तो सब कुछ ख़तम नहीं होने जा रहा. इंसान नयी-नयी चीजों की ओर आकर्षित जरूर होता है लेकिन ज़ेहन में उसे कद्र होती हैं खासियतों की. बच्चों को खेलना तो है ही पर हाँ अब उनके पास भी विकल्प बढ़ गए हैं और रूम और फील्ड का अंतर तो उन्हें पता ही है. ये और बात है, कि बाज़ार ने हरहाल में जीतने की ललक को डी.एन.ए. की तह तक इस मानिंद फिट कर दिया है कि जहाँ वे खुद को बेहतर पाते हैं उस…

Loudspeakers of Media

In today's media scenario, there are many loudspeakers, it is now not dominated by one or two or three institutions. So, there is no possibility for uniformity in media voice. Each loudspeaker has own voice, guided by own player system. We can't judge any issue from taking only one or two references, it is not the era of Doordarshan. The politics and its manifestations vary according to the time, era, generation, crisis and challenges. Texture and taste of government in truedemocracy are exact reflection of people who actively engage in political participation. Today, people are fed up with corrupt practices, lots of layers of rhetorics, red-tapism...,...., etc. They have chosen their government. This new regime must act as they promised to do. It would not be fair to compare two government working styles in a same breath. We, the people, of India, have no patience to give even some time to AAP for judgement having their manifasto in hands, but We want that AAP guys should ha…