तेरा ना होना




".....आज इक बार फिर तेरा   ना होना नागवार गुजरा है.  
वीरानी शाम में आशिक हवाओं ने मुझे बदनाम समझा है.


पुराने जख्म अब पककर,मलहम से हाथ चाहेंगे.
सनम आ जाए महफ़िल में ,दुआं दिन रत मांगेंगे.
अभी इक दर्द का लश्कर सीने के पर उतरा है !


कहूँ साजिश सितारों की या फिर बेदर्द वक़्त ही है
सनम ने ख़ुद मेरे लिए जुदाई की तय सजा की है.
कशमकश हो गई बेदम,हवाओं पर आसमां का पहरा है !!"

#श्रीश पाठक प्रखर 
एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वो भूंकते कुत्ते...

निकल आते हैं आंसू हंसते-हंसते,ये किस गम की कसक है हर खुशी में .

क्या हम कभी इतने 'सभ्य' नहीं रहे कि 'हाशिया' ही ना रहे...?