हमारा जमाना ....आजकल के बच्चे









".....बूढे कामचोर काका का  

महीने में तीसरी बार टूटा चश्मा बनवाकर ..

बेराजगार मझला घर में घुसता हुआ 

काका का फ़िर वही प्रलाप सुना 

'......हमारा जमाना ....आजकल के बच्चे.....'..!"

#श्रीश पाठक प्रखर 
एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वो भूंकते कुत्ते...

निकल आते हैं आंसू हंसते-हंसते,ये किस गम की कसक है हर खुशी में .

लंबे लाल पहाड़