कि;

आज एक बेहद हलकी सी कुछ पंक्तियाँ..







कि;

कि; वे दोनों एक-एक जगह के रईस हैं..!

कि; उन दोनों की पहुँच बाकी की पहुँच से बाहर है..!

कि; वे दोनों एक दूसरे को अपनी बता देना चाहते हैं..!

कि; दोनों सामने वाले को अपने सामने कुछ नहीं समझते हैं..!

बाकी; उन दोनों को खूब जानते हैं..!

कि; पीकर दोनों रोज शाम को झगड़ा करते हैं..!!!

#श्रीश पाठक प्रखर 

चित्र-साभार:गूगल 



23 टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वो भूंकते कुत्ते...

निकल आते हैं आंसू हंसते-हंसते,ये किस गम की कसक है हर खुशी में .

लंबे लाल पहाड़